Haryana’s Very Own Himanshu Sharma has become Grandmaster

कई सालों की तपस्या आखिरकार रंग लाई। हरियाणा स्टेट रेटेड चेस चैंपियनशिप में हरियाणा के हिमांशु शर्मा ने ऐसा ही बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए ‘हरियाणा का विश्वनाथन आनंद’ बन गए।
सोनीपत में चल रही पांच लाख ईनामी राशि वाली पहली सरदार प्रकाश सिंह मैमोरियल रेटेड शतरंज प्रतियोगिता में रोहतक के रहने वाले हिमांशु शर्मा शुरु से ही बेहतरीन फॉर्म में दिख रहे थे। चार साल से इंतजार कर रहे हिमांशु ने जबरदस्त खेल दिखाते हुए 2500 रैटिंग हासिल कर ली। इस रैटिंग के आधार पर ही हिमांशु को हरियाणा का पहला ग्रैंड मास्टर घोषित कर दिया गया।

आपको बता दें कि ग्रैंड मास्टर के लिए तीन तरह की नॉर्म्स पूरी करनी होती है इसके अलावा 2500 रैटिंग हासिल करनी होती है। हिमांशु ने चार साल पहले तीनों नॉर्म्स पूरी कर ली थी। हालांकि उसके बाद वे अबतक रैटिंग पूरी नहीं कर पाए थे।
इस जीत के बाद हिमांशु ने बताया कि शतरंज को लेकर वह हमेशा कुछ न कुछ नया करने में जुटा रहता था। रैटिंग को हासिल करने के लिए मैंने चार सालों तक कड़ी मेहनत और इंतजार किया। इसका नतीजा सभी के सामने है। हिमांशु ने आगे बताया कि मेरा सपना है कि मैं भविष्य में शतरंज प्रतियोगिता के लिए भारत का प्रतिनिधित्व करुं।

इस बेहतरीन खेल के बाद आयोजक द हरियाणा चेस एसोसिएशन के जनरल सेक्रेटरी एडवोकेट नरेश शर्मा ने बताया कि फेडरेशन के नियमों के अनुसार हिमांशु ने रैटिंग हासिल की। इसके लिए बकायदा विशेषज्ञों की मौजूदगी में मैच कराया गया। उन्होंने बताया कि हरियाणा के लिए गर्व की बात है कि हिमांशु के रुप में उन्हें हरियाणा का ‘ विश्वनाथन आनंद’ मिल गया। पूरी उम्मीद है कि हिमांशु बेहतरीन प्रदर्शन बरकरार रखते हुए आगे भी इसी तरह से प्रदेश का नाम रोशन करेंगे इसके अलावा शर्मा ने कहा है कि टूर्नामेंट को लेकर उनके ऊपर जो भी आरोप लगाए जा रहे है वो सरासर गलत है इसके लिए वे इंडियन चेस फेडरेशन समेत कानूनी तौर पर आरोपी की शिकायत कर रहे है।
इस मौके पर द हरियाणा चैस एसोसिएशन के प्रधान राजू वर्मा महासचिव नरेश शर्मा, पूर्व महासचिव प्रदीप गुप्ता समेत अन्य पदाधिकारियों ने हिमांशु और उसके परिवार को बधाई दी।

This article has 2 Comments

Comments are closed.